The raging mockery!

By Subrata Mukherjee

In love with Golapi, Subratagolapi

The New World (Natun Prithibi)

A crow is on the top of a well to find a drop of a life.

The well is full of water yet is devoid of life.

The crow in a busy gaze attempts to count the depth.

The well is so dark that even the rays of hope finds no place to in.

The crow is black yet it’s eyes are great.

The well is full of water yet it’s depth is toward hell.

The well is broad enough yet it’s mouth is narrow.

The crow fails to enter the well and the light is unable to find its way!

©️ Subratagolapi

The New World (Natun Prithibi)

जीवन की एक बूंद को खोजने के लिए एक कौआ कुआँ का ऊपर होता है।

कुआँ पानी से भरा है फिर भी जीवन से रहित है।

एक व्यस्त टकटकी में कौआ गहराई की गिनती करने का प्रयास करता है।

कुआँ इतना गहरा है कि आशा की किरणों को भी इसमें जगह नहीं मिलती।

कौवा काला है फिर भी उसकी आँखें बड़ी हैं।

कुआँ पानी से भरा है फिर भी इसकी गहराई नरक की ओर है।

कुआँ काफी चौड़ा है फिर भी उसका मुंह संकरा है।

कौआ कुएं में प्रवेश करने में विफल रहता है और प्रकाश अपना रास्ता खोजने में असमर्थ है!

© ️ सुब्रतगोलापी

नई दुनिया (नटुन पृथ्वी)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s